26 Aug 2019, 08:59:17 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
news

चीन सबसे खराब मानवाधिकार वाले देशों में हुआ शुमार

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Jul 20 2019 1:23AM | Updated Date: Jul 20 2019 1:23AM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

वॉशिंगटन। अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो ने नस्लीय एवं धार्मिक अल्पसंख्यकों के खिलाफ मानवाधिकार उल्लंघनों को लेकर चीन पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि वह वर्तमान समय में सबसे खराब मानवाधिकार रेकॉर्ड वाले देशों में एक है। धार्मिक स्वतंत्रता पर विभिन्न देशों के मंत्रियों के एक सम्मेलन में पॉम्पियो ने अपने संबोधन में कहा कि सबसे चौंकाने वाली बात यह है कि विश्व की 83 फीसदी जनसंख्या उन देशों में रहती है जहां धार्मिक आजादी खतरे में है या लोगों को उससे पूरी तरह वंचित किया जाता है। 
 
चीन में मुसलमानों की स्थिति पर उठाए सवाल :- विदेश मंत्री ने धार्मिक स्वतंत्रता के उल्लंघन को लेकर कई देशों का नाम लिया लेकिन चीन का विशेष रूप से जिक्र किया। उन्होंने कहा कि अप्रैल, 2017 से चीन ने शिनजियांग में 10 लाख से अधिक मुसलमानों और अन्य अल्पसंख्यकों को शिविरों में डाल रखा है। उन्होंने कहा, ‘चीन हमारे समय में सबसे खराब मानवाधिकार रिकार्ड वाले देशों में एक है। वाकई यह इस सदी पर एक धब्बा है।’

पॉम्पियो ने चीन में मानवाधिकार के मुद्दे पर उठाए सवाल :- पॉम्पियो ने कहा, ‘चीन में चीनी कम्युनिस्ट पार्टी चीनी लोगों एवं उसके अंतर्मन पर नियंत्रण कायम करना चाहती है। क्या यह धार्मिक विश्वास की आजादी के गारंटी के अनुरूप है जिसका सीधा चीन के संविधान में उल्लेख है।’ उन्होंने चीन में मानवाधिकार के कई उदाहरण दिए।
 
धार्मिक आधार पर हुई गिरफ्तारी पर उठाए सवाल :- उन्होंने कहा, ‘पिछले साल सितंबर में फालून गोंग के सदस्य चेन हुइक्सिया को महज अपने धर्म का पालन करने को लेकर साढ़े 3 साल की सजा दी गयी। मई, 2018 में प्रशासन ने चेंगडू के गैर पंजीकृत गिरजाघर अर्ली रेल कोवेंट चर्च के पास्टर वांग यी को धार्मिक स्वतंत्रता पर सरकार के नियंत्रण की खुलेआम आलोचना करने को लेकर गिरफ्तार कर लिया।’
 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »