23 Oct 2019, 05:34:06 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
Astrology

घर में लगाएं ये पौधा दुर होगी बीमारी, कभी नही होगी धन की कमी

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Sep 15 2019 10:55AM | Updated Date: Sep 15 2019 10:55AM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

अपराजिता पहाड़ों में मिलने वाली ऐसी कई दुर्लभ जड़ी बूटियां है। अपराजिता बहुत सामान्य सा पौधा है लेकिन बहुत लोगों को इसके बारे में आज भी जानकारी नही है। अपराजिता को विष्णु कांता भी कहते है। अपराजिता के नीले रंग के फूल को,विष्‍णू कांता कहते है, सफेद रंग के फूल को कृष्ण कांता भी कहते है। बंगाल में दुर्गा और काली देवी की पूजा मे इनके फूलों का खास महत्त्व होता है। घर की सुंदरता को बढ़ाने के लिए अक्सर लोग अपराजिता के पौधे का प्रयोग करते हैं। जिसकी मुख्य वजह है अपराजिता पौधे की फूलों की दुहरे बेलों का होना। प्राचीन ग्रंथों में अपराजिता के पौधे को कई नामों से भी जाना जाता है। जैसे गिरीकर्णी, विष्णुकांता, अश्वखुरा आदि। अंग्रेजी में इसे मेजरीन के नाम से जाना जाता है। ये पौधा दो रंगों का होता है। नीला और सफेद। अपराजिता के सफेद पौधे का मिलना कठिन होता है। लेकिन नीले रंग का अपराजिता का फूल आपको आसानी से मिल सकता है। वैदिक वाटिका आपको इस पौधे के उन रहस्यों को बता रही है जो न केवल आपकी सेहत के लिए फायदेमंद हैं अपितु आपके घर की बाधाएं भी दूर हो सकती हैं।
घर में सुख शांति के लिए - अपराजिता के पत्तों को तोड़ें और कुछ नीम के पत्तों को भी तोड़ लें अब इन्हें जालाकर इससे निकलने वाले धुएं को एक बार पूरे घर में घुमा लें। एैसा करने से घर की नकारात्मक उर्जा खत्म हो जाती है। और सुख शांति भी आती है।
कीट-पतंगों के जहर का उपचार -यदि किसी को मधुमक्खीए ततैया या किसी भी प्रकार के जहरीले कीट ने काट दिया हो तो अपराजिता के पौधे के पत्ते को रखकर उस जगह को पानी से धो लें आपको आराम मिलेगा।
बिच्छू के काटने का उपचार -  बिच्छू का डंक काफी खतरनाक होता है। यदि बिच्छू ने काट लिया हो तो अपराजिता के पत्तों को कटे हुए स्थान पर रगड़ते रहें। और जिस हिससे को काटा है उसके दूसरी और अपराजिता के पत्ते को जोर लगाकर दबाते रहें। इस उपाय से दर्द और जहर दोनों खत्म हो जाते हैं।
प्रेत बाधा से बचने के लिए - अपराजिता का पौधा नजर दोष और भूत प्रेत जैसी कई समस्याओं से भी आपका बचाव करता है। नीले रंग के कपड़े में अपराजिता के नीले फूल को बांध कर अपने गले में पहन लें। यही नहीं इस उपाय से शरीर का आलस और भारीपन भी दूर होता है।
यही नहीं अगर आपको लगे की आपके घर मे कुछ भी सही नहीं चल रहा है या नकारात्मक ऊर्जा कुछ ज्यादा ही घर मे अशांति मचा रही है, तो ऐसे मे एक सरल सा उपाय यह करे कि सफ़ेद रंग के फूल वाली अपराजिता की जड़ ले। शनिवार के दिन उसे नीले रंग के कपड़े मे बांध ले और दरवाज़े पर टांग दे। ऐसा करके जल्द आप देख सकेंगे की घर मे सकरात्मक ऊर्जा आने लगी है।
एक समस्या जो हर घर में बेहद आम है वो है धन संबंधी। इस समस्या को दूर करने के लिए आप एक सरल सा उपाय यह कर सकते है कि किसी भी रंग के फूल वाली अपराजिता की एक छोटी सी जड़ को ले ले। साथ मे एक फूल भी ले और अब इन दोनों को चांदी की एक छोटी सी डब्बी मे रख उसकी पूजा करले और अपने घर के धन के स्थान पर रख दे। ऐसा करके आप जल्द देखेंगे की धन संबंधी समस्या खतम होने लगेगी।
यह अपराजिता इतने कमाल की औषधि होती है की ना सिर्फ इंसानों को बल्कि जनवारों को भी इनसे फायदा होता है। ऐसा माना गया है कि अगर सफ़ेद अपराजिता की पत्तियों को उसकी जड के साथ पीसकर बकरी के मूत्र में मिला दिया जाए व उनकी गोली बनाकर सुखा दिया जाए और उन्हे पशुओं के गले में बांध दिया जाए तो उन्हे किसी प्रकार की बीमारी नही होती। ना ही उन्हे कोई चुराकर ले जाता है।
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »