23 Jun 2017, 19:28:24 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
Astrology

आज है बैसाखी, जानिए इस त्यौहार से जुड़ी कुछ खास बातें

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Apr 13 2017 10:35AM | Updated Date: Apr 13 2017 10:37AM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

देश के अलग-अलग जगहों पर इसे अलग नामों से मनाया जाता है-जैसे असम में बिहू, बंगाल में नबा वर्षा, केरल में पूरम विशु के नाम से लोग इसे मनाते हैं। पर क्या आपको यह पता है कि इतने बड़े स्तर पर देशभर में बैसाखी आखिर क्यों मनाते हैं लोग।
 
तो सबसे पहले ये जान लीजिए भारत के अधिकांश पर्व और त्यौहार मौसम, मौसमी फसल और उनसे जुड़ी गतिविधियों से जुड़े हैं। और इन दोनों पहलुओं, जोकि कि अन्योन्याश्रित यानी एक-दूसरे के अभिन्न अंग है, का संबंध सौरमंडल में सूर्य के संचरण से गहरे रूप से संबंधित हैं। 
उल्लेखनीय है कि भारत में महीनों के नाम नक्षत्रों पर रखे गए हैं। बैसाखी के समय आकाश में विशाखा नक्षत्र होता है।
 
सनातन परंपरा के अनुसार, विशाखा नक्षत्र पूर्णिमा में होने के कारण इस माह को बैसाखी कहते हैं। इस प्रकार वैशाख मास के प्रथम दिन को बैसाखी कहा गया और पर्व के रूप में स्वीकार किया गया। इस दिन ही सूर्य मेष राशि में संक्रमण करता है अतः इसे मेष संक्रांति भी कहते हैं। 
इस प्रकार, बैसाखी त्यौहार अप्रैल माह में तब मनाया जाता है, जब सूर्य मेष राशि में प्रवेश करता है। यह खगोलीय घटना 13 या 14 अप्रैल को होता है। इस समय सूर्य की किरणें तेज होने लगती हैं, जो गर्मी के मौसम का आगाज करती हैं।
 
इन गर्म किरणों के प्रभाव से जहां रबी की फसल पक जाती हैं, वहीं गरमा और खरीफ फसलों का मौसम शुरू हो जाता है। अब जिस देश की बुनियाद ही खेती पर टिकी हो, वहां इसका एक उत्सव तो बनता है। यही कारण है कि इस तिथि के आसपास भारत में अनेक पर्व-त्यौहार मनाए जाते हैं, जो वस्तुतः कृषिगत त्यौहार ही हैं। 
 
दूसरी ओर, कृषि यानी खेती-बारी आज भी भारत की अर्थव्यवस्था की बुनियाद है और खेती के लिए सूर्यातप और अनुकूल मौसम क्या महत्त्व है, इससे आज कोई अनजान नहीं है। क्योंकि, फसल के लिए बीज अंकुरण, पौध विकास और उसके पकने में ये सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इस लिहाज से बैसाखी को एक दूसरे नाम खेती का पर्व भी कहें तो गलत नहीं होगा। 
 
किसान इसे बड़े आनंद और उत्साह के साथ मनाते हुए खुशियों का इजहार करते हैं। लेकिन इस कृषि पर्व की धार्मिक और आध्यात्मिक पर्व के रूप में भी काफी मान्यता है। सौर नववर्ष या मेष संक्रांति के कारण कई जगहों पर इस दिन मेले लगते हैं।  लोग श्रद्धापूर्वक देवी-देवताओं की पूजा करते हैं। पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, उत्तरी राजस्थान, पश्चिमी उत्तर प्रदेश में जहां बैसाखी के रूप में उल्लास कर रंग दिखता है, तो उत्तर-पूर्वी भारत में असम प्रदेश में इस दिन बिहू पर्व मनाया जाता है। 
 
सिखों के दसवें गुरु गोबिन्द सिंह ने बैसाखी के दिन ही आनंदपुर साहिब में वर्ष 1699 में खालसा पंथ की नींव रखी थी।  इसका 'खालसा' खालिस शब्द से बना है, जिसका अर्थ शुद्ध, पावन या पवित्र होता है। चूंकि दशम गुरु, गुरु गोविन्द सिंह ने इसी दिन खालसा पंथ की स्थापना की थी। इसलिए वैशाखी का पर्व सूर्य की तिथि के अनुसार मनाया जाने लगा। खालसा-पंथ की स्थापना के पीछे गुरु गोबिन्द सिंह का मुख्य लक्ष्य लोगों को तत्कालीन मुगल शासकों के अत्याचारों से मुक्त कर उनके धार्मिक, नैतिक और व्यावहारिक जीवन को श्रेष्ठ बनाना था। 
 
सिख पंथ के प्रथम गुरु नानक देवजी ने भी वैशाख माह की आध्यात्मिक साधना की दृष्टि से काफी प्रशंसा की है। इसलिए पंजाब और हरियाणा सहित कई क्षेत्रों में बैसाखी मनाने के आध्यात्मिक सहित तमाम कारण हैं। श्रद्धालु गुरुद्वारों में अरदास के लिए इकट्ठे होते हैं। दिनभर गुरु गोविंद सिंहजी और पंच-प्यारों के सम्मान में शबद और कीर्तन गाए जाते हैं। 
 
बैसाखी पर पंजाब में गेहूं की कटाई शुरू हो जाती है। गेहूं को पंजाबी किसान कनक यानी सोना मानते हैं। यह फ़सल किसान के लिए सोना ही होती है, जिसमें उनकी मेहनत का रंग दिखायी देता है। यही कारण है कि चारों तरफ लोग प्रसन्न दिखलायी देते हैं और लंगर लगाये जाते हैं। 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »