20 Oct 2019, 11:31:10 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
Business

केबल टीवी टैरिफ में होगा बदलाव

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Jun 25 2019 12:40AM | Updated Date: Jun 25 2019 12:40AM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

नई दिल्ली। भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) जल्द नए केबल टीवी टैरिफ सिस्टम की खामियों को ठीक करने के लिए बदलाव कर सकता है। ट्राई चीफ आर एस शर्मा का कहना है कि रेग्युलेटर पर्याप्त डाटा जुटाए बगैर चीजों को ठीक करने से परहेज करेगा। उन्होंने यह भी कहा कि नई व्यवस्था से बदलाव का नया दौर शुरू हुआ है और पारदर्शित बढ़ी है। उन्होंने कहा अब ग्राहक कई आॅपरेटरों में से अपनी पसंद का कोई भी ऑपरेटर चुन सकते हैं।  शर्मा ने कहा, 'जब भी कोई नई चीज आती है तो वह कुछ क्षेत्रों में उम्मीद के अनुसार काम नहीं कर पाती है। कुछ क्षेत्रों में सुधार की गुंजाइश भी रहती है।'  शर्मा ने आगे कहा, 'चीजों को ठीक कर उन्हें बेहतर करने का रास्ता हमेशा रहता है। हालांकि हम अभी जल्दबाजी में कोई कदम नहीं उठाना चाहते हैं।' 

उन्होंने कहा, 'हम यह देख रहे हैं कि टैरिफ सिस्टम को लागू करने में कोई कमी तो नहीं रह गई ताकि उसमें सुधार किया जाए। गड़बड़ियां ठीक करने के लिए डाटा की भी जरूरत पड़ेगी। हम एआरपीयू और मुकदमों की संख्या जैसी चीजों के आधार पर फैसला नहीं करेंगे। हम इस मामले को सावधानी से देखने के साथ डाटा भी जुटा रहे हैं।' गौरतलब है कि पिछले साल दिसंबर में ट्राई नया केबल प्राइस रिजीम लेकर आया था। इसमें उपभोक्ताओं को केवल उन्हीं चैनलों के लिए भुगतान करने की छूट थी, जिसे वह देखना चाहते हैं।
 
19 रुपए से ज्यादा नहीं हो सकती चैनल की कीमत
रेग्यूलेटर ने इस साल एक फरवरी से नए नियमों को लागू कर दिया था। अब चैनलों  के समूह के हिस्से वाले किसी भी चैनल की कीमत 19 रुपए से ज्यादा नहीं हो सकती। हालांकि उन चैनलों पर कीमत को लेकर कोई बंदिश नहीं है, जो किसी भी समूह का हिस्सा नहीं है और प्रीमियम चैनल माने जाते हैं। शर्मा ने बातचीत में यह नहीं बताया कि खामियों को दुरुस्त करने के दौरान उपभोक्ताओं के मंथली केबल और डीटीएच बिल कम करने के तरीकों पर ध्यान दिया जाएगा या नहीं।   ट्राई मंथली केबल और डीटीएच बिल कम करने के लिए एक कंसल्टेशन पेपर जारी करने पर विचार कर सकता है।
 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »