14 Nov 2019, 02:05:41 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
Business

मारुति और टोयोटा तसुशो का पुराने वाहनों के निस्तारण के लिए संयुक्त उद्यम

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Nov 6 2019 2:36PM | Updated Date: Nov 6 2019 2:36PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

नई दिल्ली। देश की यात्री कार वर्ग की अग्रणी कंपनी मारुति सुजूकी और जापान के टोयोटा तसुशो समूह ने बुधवार को अपने किस्म की एक अनूठी पहल के तहत संयुक्त उद्यम स्थापित करने का एलान किया जिसमें पुराने वाहनों का आधुनिक ढंग से निस्तारण कर उसके कचरे को पुनर्चक्रीकरण करके फिर इस्तेमाल के योग्य बनाने का काम किया जायेगा।
 
मारुति सुजूकी टोयटसू इंडिया प्राइवेट लिमिटेड (एमएसटीआई) नाम का यह उद्यम मारुति सुजूकी इंडिया लिमिटेड (एमएसआईएल) और टोयोटा तसुशो समूह (टोयोटा तसुशो कारपोर्रेशन (टीटीसी) और टोयोटा तसुशो इंडिया प्राइवेट लिमिटेड (टीटीआईपीए) के बीच स्थापित किया जायेगा जिसमें प्रत्येक की 50-50 प्रतिशत की हिस्सेदारी होगी। मारुति सुजूकी के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी केनिची आयुकोवा ने नये संयुक्त उद्यम के गठन पर कहा,‘‘ मारुति सुजूकी की यह दृढ़ राय है कि बेहतर इस्तेमाल के बाद जर्जर होने वाले वाहनों के पुनर्चक्रीकरण की जिम्मेदारी हो।
 
इस उद्यम के माध्यम से कंपनी का मकसद पुर्नचक्रीकरण के जरिये कचरे का संवर्धन और स्रोतों को पर्यावरण के अनुकूल इस्तेमाल करने योग्य बनाया जा सके। पुराने वाहनों का वैग्यानिक तरीके से निस्तारण करने से प्रदूषण को कम करने के साथ ही सड़कों पर सुरक्षित में सहायता मिलेगी। एमएसटीआई में विशेषग्यों का एक दल पुराने वाहनों का निस्तारण अंतरराष्ट्रीय प्रौद्योगिकी और वैश्विक मानकों के अनुरूप करेगा।’’    टोयोटा तसुशो कार्पोरेशन के (धातु विभाग) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी नाओजी सईतो ने कहा,‘‘ टोयोटा तसुशो ने जापान में 1970 से ईएलवी पुनर्चक्रीय प्रक्रिया की शुरुआत की।
 
हमें विश्वास है कि संयुक्त उद्यम के माध्यम से अपने अनुभव का लाभ भारतीय समुदाय तक पहुंचाने में सक्षम होंगे। यह पहली इकाई है और मारुति सुजूकी के साथ ऐसी ही और इकाइयां देश के अन्य हिस्सों में स्थापित की जायेंगी।’’ यह उद्यम दिल्ली से सटे उत्तर प्रदेश के नोएडा में स्थापित किया जायेगा। इसका मुख्यालय नयी दिल्ली में होगा। यह इकाई 2020..21 में शुरू हो जायेगी।  एमएसटीआई का काम जर्जर हो चुके वाहनों को खरीदकर उसका निस्तारण करना होगा।
 
नयी इकाई के जरिये भारतीय और वैश्विक मानदंडों के अनुरुप पूरे ठोस और तरल कचरे का प्रबंधन किया जायेगा।  नोएडा पहली इकाई होगी। बाद में संयुक्त उद्यम के तहत देशभर में और इकाइयां स्थापित की जायेंगी। नोएडा इकाई की शुरुआती क्षमता दो हजार वाहनों के निस्तारण की होगी। एमएसटीआई निस्तारित किए जाने वाले वाहनों को डीलरों और ग्राहकों से सीधे खरीदेगा।
 

 

  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »