24 Oct 2018, 06:45:17 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
zara hatke

26 साल से मुसलमान कर रहे मंदिर की देखभाल

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Sep 18 2018 9:44AM | Updated Date: Sep 18 2018 9:44AM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

मुजफ्फरनगर। मुजफ्फरनगर में मुसलमानों ने एक मंदिर को 26 साल से बचाए रखा है। मुजफ्फरनगर शहर में लड्डेवाला की ओर जाने वाली सड़क पर लगभग एक किलोमीटर आगे दो इमारतों के बीच एक मंदिर स्थित है, जिसे अयोध्या में विवादित ढांचा गिराए जाने के बाद यहां रहने वाले हिंदू परिवार छोड़ गए थे। 26 साल बाद भी इस मंदिर को यहां के मुसलमानों ने बचा कर रखा है और रोजाना इसकी साफ-सफाई भी करते हैं। हर साल दिवाली पर मंदिर का रंग-रोगन किया जाता है। साथ ही इसे आवारा जानवरों और अवैध कब्जा करने वालों से भी बचा कर रखा गया है। 
 
मुस्लिम बाहुल्य लड्डेवाला के निवासी 60 वर्षीय मेहरबान अली, अभी भी उन दिनों को याद करते हैं, जब यहां रहने वाले हिंदू परिवार सांप्रदायिक संघर्ष के बाद इस इलाके को छोड़ कर चले गए थे। मेहरबान कहते हैं, 'जितेंद्र कुमार मेरे सबसे करीबी दोस्तों में से एक था, जो इस जगह को छोड़कर चला गया। तनाव के बावजूद मैंने उसे रोकने की बहुत कोशिश की, लेकिन फिर भी अन्य परिवारों के साथ कुछ दिन बाद वापस आने के वादे के साथ वह चला गया। तब से यहां के निवासी ही इस मंदिर का ख्याल रख रहे हैं। 
 
इस इलाके में लगभग 35 मुस्लिम परिवार रहते हैं, जिनमें से कई को अली की तरह ही अभी भी यह उम्मीद है कि उनके हिंदू पड़ोसी वापस लौटकर आएंगे। स्थानीय लोगों के अनुसार, 1990 के दशक में इस जगह पर लगभग 20 हिंदू परिवार रहते थे और मंदिर लगभग 1970 के आसपास बनाया गया था। 
 
स्थानीय लोग भी करते हैं मदद 
एक अन्य स्थानीय जहीर अहमद ने कहा, 'मंदिर की नियमित रूप से सफाई होती है और इसकी दीवारों की समय-समय पर पुताई भी की जाती है। हम चाहते हैं कि वे वापस आएं और मंदिर को संभालें।' पूर्व नगरपालिका वार्ड सदस्य और स्थानीय नदीम खान ने कहा, 'हर साल दिवाली से पहले यहां के लोग पैसे जमा करते हैं और इस मंदिर की रंगाई-पुताई करवाते है। वे हर दिन इसकी साफ-सफाई भी करते हैं।' 
 
मंदिर के बगल में रहने वाले अहमद ने बताया कि अभी मंदिर में कोई मूर्ति नहीं है। लेकिन 1992 से पहले यहां एक मूर्ति स्थापित थी। जब हिंदू परिवार यहां से जाने लगे, तब मूर्ति भी अपने साथ ले गए। इस समय मंदिर की देखरेख यहां के स्थानीय निवासी गुलजार सिद्दीकी, पप्पू भाई, कय्यूम अहमद, नौशाद, जाहिद अहमद और मकसूद अहमद करते हैं। 
 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »