22 Sep 2018, 05:01:09 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
State » Others

70 वर्षीय किसान ने तीन साल तक तोड़ा पहाड़, बना डाली 1 Km नहर

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Jun 24 2018 11:58AM | Updated Date: Jun 24 2018 11:59AM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

भुवनेश्वर। ओडिशा के केन्दुझर जिले में एक 70 साल के किसान ने अपने मेहनत के बल पर गांव के सैकड़ों लोगों के लिए करीब एक किलोमीटर लंबी नहर का निर्माण किया है। केन्दुझर के बैतरणी गांव के रहने वाले इन 70 वर्षीय किसान का नाम दैत्री नायक है और वह यहां के आदिवासी समाज से आते हैं। 
 
बताया जा रहा है कि बैतरणी गांव में सिंचाई के लिए कोई इंतजाम ना होने से किसानों को होने वाली परेशानी का समाधान करने के लिए दैत्री ने यहां खुद की मेहनत से करीब 1 किलोमीटर लंबी नहर का निर्माण किया है, जिसके कारण अब गांव के लोगों को अपने जीवन और खेती के लिए पर्याप्त मात्रा में पानी उपलब्ध हो सका है।  
 
जानकारी के अनुसार केन्दुझर जिले के बांसपाल, तेलकोई और हरिचंदपुर ब्लॉक में पिछले काफी समय से लोगों को पानी के अभाव में जीना पड़ता है। इस कारण कई बार पीने के पानी के अलावा खेती या अन्य किसी काम के लिए लोगों को पर्याप्त जल की व्यवस्था नहीं मिल पाती और इसी कारण यहां के किसानों को खेती के लिए सिर्फ बारिश के पानी पर ही निर्भर रहना पड़ता है। इस समस्या को देखते हुए ही दैत्री नायक ने कुछ समय पहले अपने गांव में पानी लाने के लिए एक प्रयास शुरू किया। 
 
दशरथ मांझी से मिलती है दैत्री नायक की कहानी 
वहीं दैत्री नायक के इस प्रयास पर केन्दुझर के सिंचाई विभाग के इंजिनियर सुधाकर बेहेरा ने कहा कि हमें मिली जानकारी के मुताबिक दैत्री नायक ने यहां कर्नाटका नाला से पानी लेने के लिए एक नहर का निर्माण कराया है। उन्होंने कहा कि हम नायक के गांव का दौरा करने जा रहे हैं, जिससे कि उन्हें सिंचाई के लिए कोई स्थायी समाधान मुहैया कराया जा सके। बता दें कि दैत्री नायक की कहानी देश भर में 'माउंटेन मैन' के नाम से प्रसिद्ध दशरथ मांझी के जैसी ही है, जिन्होंने 20 साल से ज्यादा वक्त तक एक पहाड़ काटकर अपने गांव के लिए रास्ता बनाया था। 
 
पानी नहीं मिलने से खेती करने में होती थी मुश्किल
दैत्री नायक ने गांव में पानी के इंतजाम के लिए पहाड़ों को तोड़कर करीब एक किलोमीटर लंबी नहर बनाई, जिसकी मदद से गांव के सैकड़ों लोगों को पीने और सिंचाई के लिए पर्याप्त पानी उपलब्ध हो सका। इस बारे में बताते हुए दैत्री नायक ने कहा, 'सिंचाई के साधन ना होने के कारण हम ठीक से खेती नहीं कर पाते थे। इस समस्या के कारण ही मैंने अपने परिवार के साथ एक नहर बनाने का काम शुरू किया, जिसके बाद तीन सालों तक पहाड़ों को काटकर एक नहर बनाई गई, जिसकी मदद से पिछले महीने गांव तक पानी लाया जा सका।' 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »