18 Aug 2018, 18:00:57 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
news » World

अब एसटीएसजी से मिनटों में भर जाएंगे शरीर के जख्म

By Dabangdunia News Service | Publish Date: May 8 2018 11:36AM | Updated Date: May 12 2018 4:19PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

कनाडा। अनुसंधानकर्ताओं ने पहली बार हलका और साथ ले जा सकने वाला एक ऐसा त्रिआयामी (थ्रीडी) स्किन प्रिंटर विकसित किया है, जो जख्मों को ढंकने और चंद मिनटों में भरने के लिए ऊतकों की परतें उन पर चढ़ा सकता है, जिन मरीजों के जख्म बहुत गहरे होते हैं उनकी त्वचा की तीनों परतें- एपिडर्मिस (बाहरी परत), डर्मिस (एपिडर्मिस और हाइपोडर्मिस के बीच की परत) और हाइपोडर्मिस (अंदरूनी परत) बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो सकती हैं।
 
ऐसे जख्मों के लिए अभी जो इलाज किया जाता है उसे स्प्लिट- थिकनैस स्किन ग्राफ्टिंग (एसटीएसजी) बोला जाता है। अब मिनटों में गायब हो जाएंगे शरीर के जख्म, करना होगा बस ऐसा अनुसंधानकर्ताओं ने पहली बार हलका और साथ ले जा सकने वाला एक ऐसा त्रिआयामी (थ्रीडी) स्किन प्रिंटर विकसित किया है, जो जख्मों को ढंकने और चंद मिनटों में भरने के लिए ऊतकों की परतें उन पर चढ़ा सकता है, जिन मरीजों के जख्म बहुत गहरे होते हैं उनकी त्वचा की तीनों परतें- एपिडर्मिस (बाहरी परत), डर्मिस (एपिडर्मिस और हाइपोडर्मिस के बीच की परत) और हाइपोडर्मिस (अंदरूनी परत) बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो सकती हैं। ऐसे जख्मों के लिए अभी जो इलाज किया जाता है उसे एसटीएसजी कहा जाता है।
 
जख्मों को भरने में होगा कारगर
कनाडा की यूनिवर्सिटी आॅफ टोरंटो के एक्सेल गुएंथेर बताते हैं, सबसे नए बायोप्रिंटर बहुत भारी होते हैं। कम गति से काम करते हैं। बहुत महंगे हैं और क्लिनिकल अनुप्रयोगों के साथ मेल नहीं खाते। उनकी अनुसंधान टीम का मानना है कि उनका स्किन प्रिंटर एक ऐसी तकनीक है, जो इन रुकावटों से पार पा सकता है और जख्म भरने की प्रक्रिया में सुधार कर सकता है।
 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »