22 Nov 2017, 16:40:18 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
zara hatke

अब इलेक्ट्रिक मशीन से होगा अंतिम संस्कार

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Apr 21 2017 12:02PM | Updated Date: Apr 21 2017 12:02PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

झुंझुनूं। देश के महानगरों की तर्ज पर जल्द ही राजस्थान के झुंझुनूं शहर में भी इलेक्ट्रिक मशीन से दाह संस्कार होंगे और इंदिरा नगर स्थित मुक्तिधाम में दाह संस्कार के लिए इलेक्ट्रिक मशीन लगाने की तैयारियां की जा रही है। बिजली और गैस से संचालित इस मशीन के लिए 50 लाख रुपए का बजट रखा गया है। पर्यावरण प्रदूषण को रोकने और सूखी लकड़ियों का  अभाव से मुक्ति पाने के लिए इस आधुनिक तकनीक का सहारा लिया जा रहा है।   
 
इलेक्ट्रिक मशीन नगर परिषद की ओर से लगाई जाएगी तथा इसके लिए नगर परिषद ने टेंडर जारी कर दिए हैं। यह मशीन यूं तो बिजली से संचालित होगी लेकिन इसमें पावर कट बाधा पैदा नहीं कर सकेगा क्योंकि इसमें गैस का भी आॅप्शन होगा। पावर कट की स्थिति में गैस आॅप्शन से मशीन को संचालित किया जा सकेगा। 
 
इलेक्ट्रिक मशीन से दाह संस्कार में लागत भी कम आएगी। परंपरागत दाह संस्कार में करीब आठ नौ हजार रुपए की लकड़ियां और करीब एक हजार रुपए से अधिक का अन्य सामान जलता है। वहीं इलेक्ट्रिक मशीन में बिजली या गैस की लागत करीब एक हजार रुपए तक ही आएगी।       
इलेक्ट्रिक मशीन में घंटेभर में दाह संस्कार की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी जबकि परंपरागत दाह संस्कार में अमूमन तीन से चार घंटे का समय लगता है। कई बार लकड़ियों गिली हो तो समय और भी ज्यादा लग जाता है। दाह संस्कार भट्टी कवर्ड एरिया में होगा।
 
ऐसे में आंधी, बरसात और तीखी धूप की समस्या से भी छुटकारा मिलेगा। अब तक शहर में परंपरागत तरीके से ही दाह संस्कार किया जाता है। इसमें लकड़यिों की चिता बनाकर शव को रखा जाता था। करीब दो से पांच क्विंटल लकड़ियां और कई तरह की सामग्री रखने के बाद मुखाग्नि दी जाती थी। लकड़ियों के जलने से काफी मात्रा में प्रदूषण होता है जो स्वास्थ्य के लिए भी हानिकारक होता है। 
 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »