17 Oct 2019, 21:03:12 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
State

श्योपुर में पार्वती और चंबल में उफान, राजस्थान को जोड़ने वाले सभी मार्ग बंद

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Sep 15 2019 12:18PM | Updated Date: Sep 15 2019 12:18PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

श्योपुर। मध्यप्रदेश के श्योपुर जिले को राजस्थान से जोड़ने वाले तीनो प्रमुख मार्ग कोटा व सवाई माधोपुर तथा बारां आज चम्बल-पार्वती नदियों पर भयंकर उफान के कारण पूर्ण रूप से ठप हो गए। वहीं, राजस्थान के कोटा बैराज से उसकी पूरी क्षमता का पानी 6 लाख 70 हजार क्यूसेक पानी चम्बल नदी में छोड़ा जा रहा है। नदियों के किनारे जिला प्रशासन एवं पुलिस की टीम सतर्क है। सिंचाई विभाग के मुख्य कार्यपालन अधिकारी सुभाष गुप्ता ने बताया की 23 वर्ष बाद इतना पानी चम्बल नदी में छोड़ा गया है। उन्होंने बताया की मंदसौर स्थित प्रमुख बांध गांधीसागर करीब साढ़े छह लाख क्यूसेक पानी छोड़ रहा है, जिसे राजस्थान के कोटा बैराज के रास्ते नदी में निकाला जा रहा है। उन्होंने बताया की चम्बल नदी श्योपुर की राजस्थान सीमा  पाली पुल पर खतरे के निशान से 3 मीटर ऊपर बह रही है। गुप्ता ने बताया की पाली चम्बल पुल के ठीक सामने भोपाल तरफ से उफान पर चल रही पार्वती नदी का संगम है। वहीं राजस्थान में कुछ पहले एक ओर बड़ी नदी कालीसिंध भी उफनती हुई चम्बल में मिल रही है, जिससे चम्बल रौद्र रूप ले रही है।
 
उन्होंने बताया की सभी नदी किनारे के गाँवो में वे स्वयं संपर्क में हैं। उन्होंने बताया की श्योपुर जिले में बरसात नही होने से राहत की बात है, जिससे ये पानी मुरैना व भिंड जिलों से होकर निकल जायेगा। वहीं, पुलिस सूत्रों ने बताया की आज इस नेशनल हाइवे टोंक -चिरगांव का मार्ग दांतरदा गांव की पुलिया पर 5 फीट चम्बल नदी का पानी घुसने से मार्ग अवरुद्ध  हो गया, जिससे सवाई माधोपुर, जयपुर , दिल्ली , हरियाणा , पंजाब व गुजरात जाने वाले भारी वाहन सहित यात्री बसे व रेल यात्री भारी संख्या में फंस गए। वहीं पिछले सात दिन से राजस्थान को कोटा मार्ग पार्वती नदी पर पुल पर 20 फीट पानी होने से बंद है। राजस्थान का बारां जाने वाला मार्ग सुरथाग पार्वती पुल पर 3 दिन से पुल पर 8 फीट पानी होने से बंद है। इससे उदयपुर, बूंदी, झालावाड़ व गुजरात जाने वाले वाहन फंसे हैं। सूत्रों ने बताया की श्योपुर से इन तीनो मार्गो पर जाने वाली रोजाना करीब 150 से ज्यादा बसें रुक गयी है। वहीं, गुड्स वाहन पूरी तरह सैकड़ो की संख्या में जहां तहां-रुक गए हैं।
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »