21 Nov 2017, 23:04:47 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
news » National

नाम बदलने से चीन का नहीं हो जाएगा अरुणाचल प्रदेशः भारत

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Apr 20 2017 8:26PM | Updated Date: Apr 20 2017 8:26PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

नई दिल्ली। भारत ने अरुणाचल प्रदेश पर चीन के दावे को 'अवैध' करार देते हुए गुरूवार को कहा कि अरुणाचल प्रदेश के कुछ हिस्सों का मनगढंत तरीके नामकरण किए जाने से चीन का दावा सच नहीं हो जाएगा। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गोपाल बागले ने कहा कि पड़ोसी देश के शहरों के नाम बदलने से 'अवैध प्रादेशिक दावे' वैध नहीं हो जाते। अरुणाचल प्रदेश भारत का अभिन्न हिस्सा है और हमेशा रहेगा।

           
इस बीच केन्द्रीय सूचना प्रसारण मंत्री एम वेंकैया नायडू ने चीन के इस कदम का तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि चीन हमारे देश के शहरों के नाम कैसे बदल सकता है। कोई अपने पड़ोसी का नाम भी नहीं बदल सकता है भले ही वह उसे कितना ही नापसंद हो। 
 
उन्हों ने कहा कि चीन को हमारे शहरों के नाम बदलने का कोई अधिकार नहीं है। ऐसा लगता है कि यह चीन का दुष्प्रचार का हथकंडा है। अरुणाचल प्रदेश भारत का अभिन्न हिस्सा है और वहां नियमित रूप से चुनाव होते हैं तथा वहां पर लोकतांत्रिक ढंग से चुनी हुई सरकार है। 
           
चीन द्वारा आयोजित 'वन बेल्ट वन रोड' सम्मेलन में भारत की भागीदारी के बारे में पूछे जाने पर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि भारत को निमंत्रण मिला है और वह इस पर विचार कर रहा है। सूत्रों के अनुसार सम्मेलन में राज्य मंत्री स्तर पर भागीदारी की संभावना है। 
 
6 शहरों के बदले नाम
चीन अपने कागजी नक्शे में बदलाव किया है। उसने अपने नक्शे में अरुणाचल प्रदेश के छह जिलों के नाम बदले हैं। दिलचस्प बात यह है कि चीन ने अपने नक्शे में इन जिलों के नाम चीनी स्टैंडर्ड पर रखे हैं। चीन ने 6 जिलों के नाम बदलकर वो ग्यैलिंग, मिला री, क्योइदेनगार्बो री, मैनक्यूका, बुमा ला और नामकपुब री रखा है। 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »