07 Dec 2019, 21:42:11 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
news » National

जेएनयू एलमनी एसोसिएशन ने परिसर की स्थिति पर चिंता जताई

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Nov 17 2019 12:14AM | Updated Date: Nov 17 2019 12:14AM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

नई दिल्ली। जवाहर लाल नेहरु विश्वविद्यालय (जेएनयू) के पूर्व छात्रों के संघ (एलमनी एसोसिएशन) ने जेएनयू परिसर की मौजूदा स्थिति पर चिंता व्यक्त करते हुए इसके शीघ्र समाधान का आग्रह किया है। एसोसिएशन ने आज यहां जारी एक बयान में कहा है। यह विश्वविद्यालय अपने स्वर्ण जयंती के दौर में है और हमने  अपने संस्थान में शांति की उम्मीद की थी लेकिन जेएनयू प्रशासन की ओर से फीस में आंशिक तौर पर कमी किए जाने के बाद अभी तक यह प्रतीत नहीं होता है। शुरू में इस मामले में दोनों पक्षों के बीच बातचीत शुरू की जानी चाहिए थी और आपस में विश्वास बहाली करनी चाहिए थी लेकिन ऐसा नहीं हुआ है और चीजों में सुधार होने के बजाए वे बदतर होती गईं।
 
विरोध प्रदर्शन और नारेबाजी करना जेएनयू के लिए नयी बात नहीं है और हमने भी इसी माहौल में सांस ली है तथा इसी तरह के प्रदर्शनों में हिस्सा लिया था। हमारे सीनियर चाहे उनकी विचारधारा कोई भी रही हो, उन्होंने हमें यही सिखाया था कि चीजों को हमेशा व्यापक परिदृश्य में देखना चाहिए लेकिन जेएनयू प्रशासन की तरफ से इस मसले का हल किए जाने के प्रयासों के बावजूद हमारे छात्र अभी भी प्रदर्शन कर रहे हैं। इससे भी इस प्रतिष्ठित संस्थान की छवि को नुकसान हो रहा है। जेएनयू परिसर की मौजूदा स्थिति से जेएनयू एल्मनी  को काफी दुख हुआ है। बयान में कहा गया  है कि जेएनयू एल्मनी के सचिव आर सुब्रमण्यम ने 13 नवंबर 2019 को एक टवीट किया था,  ‘‘जेएनयू कार्यकारी परिषद ने हॉस्टल फीस और अन्य शुल्कों मे कमी की घोषणा की है और आर्थिक रूप से पिछड़े छात्रों के लिए सहायता की योजना का प्रस्ताव भी दिया....अब कक्षाओं में लौट जाने का समय है।’’
 
लेकिन इससे भी  मौजूदा समस्या का निपटारा नहीं हो सका है। इसमें कहा गया  है कि जेएनयू की वर्षों पुरानी परंपरा के चलते एसोसिएशन बातचीत के जरिए इस समस्या के हल में विश्वास रखती है और प्रदर्शनकारी  जेएनयू छात्रों तथा प्रशासन से आग्रह करती है कि वे आपस में बातचीत करें तथा जो भी शिकायतें हैं, उनका स्वीकार्य समाधान निकाला जाना चाहिए।
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »