13 Dec 2017, 22:10:25 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
Lifestyle

सासू मां के तानों से घबराना कैसा

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Jan 4 2017 3:23PM | Updated Date: Jan 4 2017 3:23PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

सास-बहू का रिश्ता बड़ा ही चुलबुला होता है। इस रिश्ते में अक्सर सास को अत्याचारी और बहू को बैचारी की संज्ञा दी जाती है, लेकिन जरूरी नहीं है कि हर बार सास की ही गलती हो। कुछ बहूएं भी ऐसी होती हैं, जो सास को तंग करने से पीछे नहीं हटती। कई बार बहू अत्याचारी हो जाती और सास बैचारी।
 
अगर सास-बहू के रिश्ते छोटी-मोटी नोक-झोक होना आम है। अगर यह ही नहीं होगी, तो जिंदगी बिल्कुल नीरस हो जाएंगी। इसलिए सास-बहू में छोटी-छोटी बहस होना भी जरूरी है, लेकिन इसका ये मतलब नहीं कि इस बात को बहुत बड़ा मुद्दा बनाया जाया। 
 
रिश्ते से बंधी है डोर...
सास के मन में डर बैठा रहता है कि कहीं उसकी बहू उसके बेटे को अपने कब्जे में न कर लें। वह भूल जाती है कि कल वो भी किसी की बहू थी। किसी बहू को ससुराल में प्रवेश करते ही अपने पति को बस में करने बचाएं। सास को करना चाहिए। अगर सास बस में रहेंगी, तो जाहिर है, बेटा तो बस में ही रहेगा। अक्सर सुनने को मिलता है कि सास अपनी बहू को काम को लेकर तो कभी बाहर घूमने को लेकर ताने मारती हैं, लेकिन सास भूल जाती है कि बेटी अपने परिवार को छोड़ उनके घर आई है।
 
अगर सास अपनी बहू के साथ अच्छा व्यवहार करेंगी, तभी बहू सबको अच्छे से स्वीकार करेंगी।  इस रिश्ते में सबसे बडी प्रॉब्लम तब आती है, जब लड़की के घर वाले उसके कान भरने लगते हैं। ऐसा कहते है कि जिस घर में लड़की के मायके वालों की दखलअंदाजी होती है, वह बर्बाद हुआ माना जाता है। इसलिए लड़की के मायके वालों के पहले ही अपनी बेटी को ससुराल वालों का ख्याल रखना, अपने फर्ज को निभाने और सास को सम्मान देने की सीख देना चाहिए।
 
रिश्ता मजबूत होगा...
किसी सास को बहू को बेटी का दर्जा और बहू को सास को मां का दर्जा देने में समय लग जाता है। ऐसे में सास-बहू को कुछ बातों का ध्यान रखने की जरूरत है। 

ध्यान रखना चाहिए...
- ऐसे में सास को समझना चाहिए, क्योंकि वह अभी नए घर और माहौल में आई है, उसे सबको अपनाने में थोड़ा समय लगेगा। 
- हर सास को अपनी बहू के साथ अपने बेटे जैसा व्यवहार करना चाहिए, ताकि उसे अपने पुराने घर की याद महसूस न हो। 
- सास को बहू के घर से आई चीजों की गिनती नहीं करनी चाहिए और कम सामान लाने पर उसे टाने नहीं देने चाहिए। 
- बहू से उतना ही काम करवाना चाहिए, जितना वे कर सकें। ज्यादा बोझ नहीं डालना चाहिए, क्योंकि वो भी इंसान है।
 
बहू भी रखें इन बातों का ख्याल
- बहू की तरह सास भी चाहती है कि उसे अपनी बहू से मां जैसा प्यार मिले। 
- बहू को पति का ही नहीं, बल्कि पूरे परिवार का ध्यान रखना चाहिए। तभी वह अपने जगह बना पाएगी। 
- अपने पति को कभी भी उसकी मां से दूर करने की कोशिश न करें, क्योंकि इससे घर में झगड़े बढ़ते हैं। 
- सास को मां जैसा प्यार ,इज्जत देनी चाहिए और अपनी सास से बातों के शेयर करें। 
 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »