25 Mar 2019, 15:25:22 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
Sport » Hockey

हॉकी वर्ल्ड कप से बाहर हुई भारतीय टीम - टूटा 43 साल पुराना सपना

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Dec 14 2018 11:16AM | Updated Date: Dec 14 2018 11:16AM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

भुवनेश्वर। मेजबान भारतीय टीम को हॉकी वर्ल्ड कप-2018 के क्वॉर्टर फाइनल में हार का सामना करना पड़ा है। उसे तीन बार की चैंपियन नीदरलैंड्स टीम ने 2-1 से हराया। ओडिशा के कलिंगा स्टेडियम में खेले गए इस मुकाबले में भारतीय टीम ने विपक्षी टीम को जोरदार टक्कर दी, लेकिन आखिरी क्वॉर्टर में नीदरलैंड्स ने बढ़त बनाई और मुकाबला अपने नाम कर लिया। 
 
इसके साथ ही नीदरलैंड्स ने भारत के खिलाफ वर्ल्ड कप में कभी नहीं हारने का रिकॉर्ड बनाए रखा है। इस जीत के साथ ही उसने सेमीफाइनल में प्रवेश कर लिया है। जहां उसका मुकाबला दो बार की डिफेंडिंग चैंपियन आॅस्ट्रेलिया से होगा, जिसने फ्रांस को 3-0 से हराकर सेमीफाइनल में प्रवेश किया था। भुवनेश्वर जैसी जगह में शानदार स्टेडियम और दर्शकों के सपोर्ट के साथ वो सब था, जो भारतीय टीम को मिलना चाहिए था। जरूरत सिर्फ गलतियां कम करने की थी, जो भारतीय टीम नहीं कर सकी। उसने मौके गंवाए और इनके साथ ही इतिहास रचने का मौका भी गंवा दिया।
 
बढ़त बनाने के बाद भी भारतीय खिलाड़ियों से हुई कर्इं गलतियां, जो बन गई हार की वजह
भारत ने भले ही बढ़त बनाई, लेकिन वो सभी गलतियां भी शुरुआत से ही कीं, जिनके लिए भारतीय कोच हरेंद्र सिंह टीम को चेतावनी दे रहे थे। ऐसा लग रहा था कि जिन गलतियों से बचने की जरूरत है, वही करने पर टीम इंडिया उतारू थी। शुरुआत में मनदीप सिंह ने गोल करने का मौका गंवाया। इसके बाद भी भारतीय फॉरवर्ड लाइन को मौके मिले, जहां आराम से पेनल्टी कॉर्नर पाया जा सकता था, लेकिन ऐसा लग रहा था कि बड़े मैच में हर कोई हीरो बनना चाह रहा था। इस चाह ने भारत को सेमीफाइनल से दूर कर दिया।
 
ऐसे चला मुकाबला 
- भारत के लिए 12वें मिनट में भारत ने पेनल्टी कॉर्नर को गोल में बदला। 
- जब ऐसी उम्मीद बंध रही थी कि पहला क्वार्टर भारत बढ़त के साथ खत्म करेगा, उसी समय नीदरलैंड्स बराबरी करने में कामयाब रहा। 
- हाफ टाइम तक स्कोर 1-1 से बराबर था। 
- 50वें मिनट में नीदरलैंड्स का निर्णायक गोल हुआ। मिंक वान डेर वीर्डन के ड्रैग का श्रीजेश के पास जवाब नहीं था। भारतीय टीम का प्रदर्शन पिछड़ने के बाद और खराब हुआ। 
- 53वें मिनट में अमित रोहिदास येलो कार्ड ले बैठे। आखिरी 7 मिनट टीम 10 खिलाड़ी संग खेली। 
- इस दौरान हालांकि नीदरलैंड्स को मिले एक पेनल्टी कॉर्नर को भारत ने गोलकीपर के बगैर भी रोकने में कामयाबी पाई। 
- हालांकि इससे टीम इंडिया या भारतीय खेल प्रेमियों को कोई फायदा नहीं मिला, क्योंकि स्कोरलाइन 2-1 ही रही।
 
भारत का क्वॉर्टर फाइनल तक का सफर
साउथ अफ्रीका को 5-0 से हराया 
बेल्जियम से 2-2 का ड्रॉ खेला। 
कनाडा को 5-1 से हराया 
 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »