06 Dec 2019, 23:43:24 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
Health

थर्ड-हैंड स्मोकिंग से इपीथिलियल कोशिकाओं को पहुंचता है नुकसान

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Jul 21 2019 2:00AM | Updated Date: Jul 21 2019 2:00AM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

सिन्हुआ के अनुसार, इस शोध का प्रकाशन इस हफ्ते के जामा नेटवर्क ओपन के हालिया संस्करण में किया गया है। इससे पता चलता है कि थर्ड हैंड धूम्रपान श्वसन तंत्र में इपीथिलियल कोशिकाओं को नुकसान पहुंचा सकता है। टीएचएस का परिणाम धूम्रपान में श्वास छोड़ने व सिगरेट के जलने से निकलने वाले धुएं के सतह जैसे कपड़े, बाल व फर्नीचर पर गिरने की वजह से होता है।

यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया रिवरसाइड (यूसीआर) के शोधकर्तार्ओ ने पाया कि 27 से 49 साल की आयु वाली चार स्वस्थ धूम्रपान नहीं करने वाली महिलाओं के नेजल स्क्रेप्स को बिना किसी क्रम के स्वच्छ वायु के संपर्क में रखा गया और इसके बाद तीन घंटे के लिए टीएचएस के संपर्क में रखा गया। शोधकर्ताओं ने उनके राइबोन्यूक्लिक एसिड (आरएनए) के जीन एक्सप्रेशन में बदलाव की जांच के लिए उनका आरएनए लिया। अध्ययन के अनुसार, डेटा सेट में लगभग 10,000 जीनों में से कुल 382 जीनों में महत्वपूर्ण रूप से अधिक बदलाव और सात अन्य जीनों में कम बदलाव देखे गए।

यह है थर्ड हैंड स्मोकिंग- ये ऐसी स्मोकिंग है, जहां पर कई लोग धूम्रपान करते हैं और उस जगह पर सिगरेट की बट और राख जमा हो जाती है। उसके अवशेष हवा में उड़ते रहते हैं और वातावरण को प्रभावित करते हैं। उस जगह पर कोई भी व्यक्ति जाता है या मौजूद होता है वहां हवा में घुले स्मोकिंग के अवशेष उसे नुकसान पहुंचाते हैं।
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »