30 May 2017, 04:19:45 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
news » Exclusive news

गड़बड़ी- एमओएस, पार्किंग हजम कर बना दिया मार्केट

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Apr 28 2017 11:12AM | Updated Date: Apr 28 2017 11:12AM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

विनोद शर्मा -

इंदौर। मुख्य मार्गों से लेकर निगम मुख्यालय तक के सामने निगम प्रशासन की तरफ से बिल्डरों को मिली मनमानी की छूट के दुष्परिणाम अब कई जगह नजर आने लगे हैं। मनमाने ढंग से तनी अवैध इमारतों की सूची में एक नाम और जुड़ गया है 786, पंचशीलनगर का। यहां बिल्डर ने 2400 वर्गफीट के प्लॉट पर बिल्डिंग तो एक तानी, लेकिन पार्टीशन कर डुप्लेक्स स्टाइल में जी+2 चार दुकानें निकाल दीं। हर दुकान करीब एक करोड़ रुपए में बेची जा रही है।
 
सौदा करोड़ों का
जमुनादास धामानी की गिनती दक्षिण/पश्चिम इंदौर के बड़े भू-माफिया के रूप में होती है। इससे पहले भी वह कई बिल्डिंगें बना चुका है। हर बिल्डिंग गड़बड़ से शुरू, गड़बड़ पर खत्म। पंचशीलनगर की दुकानों को 6333 रुपए वर्गफीट की दर पर बेचा जा रहा है। जी+2 एक दुकान में 1500 वर्गफीट बिल्टअप एरिया है, इसीलिए कीमत 95 लाख रुपए आंकी जा रही है। 
 
नोटिस दे चुके हैं
शिकायत के बाद मौका निरीक्षण किया था, जो अनियमितताएं सामने आई उनके आधार पर नोटिस दे चुके हैं। हालांकि अब तक जवाब नहीं आया। 
- जेपी सिंह, भवन निरीक्षक
 
नियमों की अनदेखी कर निर्माण
निर्माणाधीन मार्इं मंगेश्कर सभागृह वाली रोड पर प्लॉट नंबर 786-ए (जो रुक्मिणी इंजीनिरिंग प्रालि डायरेक्टर राकेश पिता राधेश्याम खंडेलवाल के नाम दर्ज है) पर पलसीकर क्षेत्र में रहने वाला बिल्डर जमुनादास धामानी बिल्डिंग बना रहा है। धामानी ने मप्र भूमि विकास अधिनियम के तहत बिल्डिंग के सामने चौतरफा छोड़े जाने वाले मार्जिनल ओपन स्पेस (एमओएस) पर कब्जा किया और बिल्डिंग में समाहित कर लिया। पूरे मामले की शिकायत क्षेत्रीय पार्षद जगदीश धनेरिया भी कर चुके हैं। 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »